गोविन्द साहब के मेले में घोड़ों की मार्किट बनी आकर्षण का केंद्र, एक से एक अच्छे नस्ल को लेकर बढे खरीदार

गोविन्द साहब के मेले में घोड़ों की मार्किट बनी आकर्षण का केंद्र, एक से एक अच्छे नस्ल को लेकर बढे खरीदार
Spread the love

अंबेडकरनगर। पूर्वांचल के ऐतिहासिक मेला गोविंद साहब में पहुंच रही श्रद्धालुओं की भारी भीड़ से मेला व्यवसाइयों में जहां हर्ष कायम है वहीं बाहरी जनपदों से अच्छी नस्ल के घोड़े एवं पड़िया की लोग जमकर खरीदारी कर रहे हैं। तथा जिससे मेला स्थित पशु व्यापारियों में जानवरों की बिक्री से खुशी देखने को मिल रही है। इसके ईतर पशुओं की बढ़ती खरीद फरोख्त से जिला पंचायत की आय में भी इजाफा हो रहा है।  बता दें कि बीते 28 नवंबर से शुरू होकर लगभग माहभर तक चलने वाले ऐतिहासिक मेला गोविंद साहब में पूर्वांचल के विभिन्न जनपदों से पहुँच रही श्रद्धालुओं की भारी भीड़ से पूरा मेला गुलजार हो उठा है। मेले में पहुंच रहे लोग स्नानोपरान्त महात्मा की समाधि पर पूजन-अर्चन के उपरांत मेले में पहुंच अपने दैनिक उपयोग की वस्तुओं जैसे ऊनी वस्त्र रसोई के वर्तन श्रृंगार के सामान फूल पौधे तथा यहाँ की मशहूर लाल गन्ना व खजला की जमकर खरीदारी करने के अलावा मनोरंजन का भी जमकर लुत्फ उठा रहे हैं। जिससे मेला ब्यवसायी भी काफी मुदित हैं ।इसके अलावा  मेले में आए अच्छी राशि के घोड़े एवं पड़िया की बिक्री भी जमकर हो रही है। घोड़ा व्यवसाई लालजी सिंह हीरालाल अयोध्या सिंह लक्ष्मीकांत राम दरस एवं चिथरू यादव आदि ने बताया कि इस बार मेले में आए घोड़ों की खरीद-फरोख्त में बेतहाशा वृद्धि हुई है। जिसके कारण घोड़ा व्यवसाई काफी मुदित है। इतना ही नहीं मेले में आई अच्छी नस्ल की भैंस की भी जमकर बिक्री हो रही है। पूर्वांचल के विभिन्न जनपदों के लोग अच्छी नस्ल की भैंस के बच्चों को यहां से ले जाकर उनका पालन पोषण कर भैंस तैयार करते हैं। बताया जाता है कि गोविंद साहब मेले में भैंस एवं घोड़े के बच्चे अन्य जनपदों की अपेक्षा सस्ते एवं उचित मूल्य पर मिल जाते हैं। लिहाजा जानवरों के शौकीन यहां से जमकर खरीदारी कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *