बिना प्रसूताओं महिलाओं को भोजन दिए भुगतान की तैयारी की सुगबुगाहट से हड़कम्प, चिकित्साधिकारी का कार्रवाई का भरोसा

बिना प्रसूताओं महिलाओं को भोजन दिए भुगतान की तैयारी की सुगबुगाहट से हड़कम्प, चिकित्साधिकारी का कार्रवाई का भरोसा
Spread the love

आजमगढ़ : मार्टिनगंज तहसील मुख्यालय पर स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर प्रसूता महिलाओं को मिलने वाला भोजन एक वर्ष से पहले से नहीं उपलब्ध हो रहा है लेकिन सरकार की इस योजना को पलीता लगाने के लिए स्वास्थ्य विभाग में भुगतान फर्जी ढंग से कराने की तैयारी की सुगबुगाहट से खलबली मच गयी है। तहसील मुख्यालय पर स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर प्रतिदिन आने वाली प्रसूता महिलाओं को पौष्टिक भोजन देने की व्यवस्था सरकार द्वारा की गई है इसके लिए प्रत्येक प्रसूता महिला प्रसव उपरांत 48 घंटा स्वास्थ्य केंद्र पर स्वास्थ्य लाभ के समय प्रतिदिन तीन टाइम भोजन व नाश्ता दिया जाने का प्रावधान है लेकिन सरकार की इस महत्वाकांक्षी योजना को स्वास्थ्य विभाग के स्थानीय अधिकारियों द्वारा उच्च अधिकारियों की मिलीभगत से पलीता लगा रहे हैं विगत 1 वर्ष के पहले से यहां प्रसूता महिलाओं को देने वाला भोजन बंद हो चुका है बार-बार पूछने पर कहा गया कि टेंडर नहीं हुआ है लेकिन मार्च बीतने के समय जिले के कथित भोजन बनाने समिति के माध्यम से जो पूर्व में यहां प्रसूता महिलाओं को भोजन देने की व्यवस्था देखता था उसको बुला कर के फर्जी बिल बाउचर तैयार कर भुगतान की तैयारी स्वास्थ विभाग द्वारा किया जा रहा है इस संबंध में ब्लॉक प्रोजेक्ट मैनेजर अनुज कुमार से जब बात की गई कि 1 वर्ष में कितने प्रसव हुए होंगे उनका कहना था कि प्रतिमाह डेढ़ सौ हिसाब से लगभग 18 सौ से 2000 तक 1 अप्रैल  2017 से 31 मार्च 2018तक प्रसव हुए होगे। अब लगभग 18 सौ से 2000 प्रसूता महिलाओं के लिए भोजन की व्यवस्था का भुगतान होना है। इस संबंध में अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी परवेज अख्तर से बात की गई तो उनका कहना था कि मुख्य चिकित्सा अधिकारी के संज्ञान में लाया जाएगा अगर फर्जी ढंग से प्रसूता महिलाओं को भोजन का भुगतान करने का प्रयास किया जा रहा है तो जांच कराकर दोषी अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *