डीएम की चेकिंग मिलने लगी पूर्ण उपस्थिति, इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम में नोडल अधिकारियों संग बैठक, कन्टेनमेंट जोन की प्रतिदिन मानिटरिंग करने को कहा, किसान निधि की भी समीक्षा 

आजमगढ़ : सीएम के निर्देश के क्रम में कार्यालयों में कर्मचारियों की उपस्थिति शत प्रतिशत सुनिश्चित कराये जाने हेतु निर्देश दिये गये हैं। तत्क्रम में जिलाधिकारी राजेश कुमार द्वारा कलेक्ट्रेट स्थित अभिहीत अधिकारी, खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन तथा जिला आबकारी अधिकारी कार्यालय का आकस्मिक निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान उक्त दोनों कार्यालयों में सभी कर्मचारी उपस्थित पाये गये। कार्यालय की सफाई व्यवस्था संतोषजनक पायी गयी। जिलाधिकारी ने अभिहीत अधिकारी तथा जिला आबकारी अधिकारी को निर्देश दिये कि कार्यालय में आने वाले सभी व्यक्तियों को नियमित रूप से सेनेटाईज करने के बाद ही कार्यालय मंे प्रवेश कराया जाय तथा कोविड-19 से बचाव हेतु निर्धारित प्रोटोकाल का अनुपालन करना सुनिश्चित करें।
कोविड-19 महामारी के दृष्टिगत जिलाधिकारी राजेश कुमार की अध्यक्षता में देर सायं जीजीआईसी आजमगढ़ में स्थापित इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम में नोडल अधिकारियों के साथ बैठक संपन्न हुई।
इस अवसर पर जिलाधिकारी ने सीएमओ को निर्देश दिये कि जनपद में जितने भी कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं, उस कन्टेनमेंट जोन की प्रतिदिन मानिटरिंग करें। उन्होने कहा कि जो कन्टेनमंेट जोन बनाये गये हैं, उसमें कोई भी व्यक्ति नही घूमना चाहिए। इसी के साथ ही कोरोना संक्रमण की जांच में तेजी लायें।
जिलाधिकारी ने कहा कि जिस व्यक्ति की कोरोना संक्रमण की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आ रही है, उस व्यक्ति के कन्टैक्ट ट्रेसिंग मे जो व्यक्ति मिल रहे है, उनकी जांच शत-प्रतिशत कराना सुनिश्चित करें। इसी के साथ ही जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि जिन व्यक्तियों की जांच एंटीजन किट, आरटीपीसीआर व टूª नाट मशीन से हो रही है, उनकी जांच रिपोर्ट को संबंधित एमओआईसी के माध्यम से प्रतिदिन पोर्टल पर शत प्रतिशत फीड कराना सुनिश्चित करें। इस अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी आनन्द कुमार शुक्ला, मुख्य राजस्व अधिकारी हरिशंकर, अपर जिलाधिकारी वि0/रा0 गुरू प्रसाद, अपर जिलाधिकारी प्रशासन नरेंद्र सिंह, एसपी ट्रैफिक सुधीर जायसवाल, सीएमओ डॉ0 एके मिश्रा, एसीएमओ डॉ संजय, डिप्टी सीएमओ डाॅ0 वाईके राय, जिला कार्यक्रम अधिकारी मनोज कुमार सहित संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

  जिलाधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि जनपद आजमगढ़ मे कुल कृषक परिवारों की अनुमानित संख्या 758215 है। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजनान्तर्गत कृषि विभाग एवं कृषक द्वारा स्वयं कराये गये पंजीकरण के आधार पर कुल 773232 कृषक पंजीकृत है। कुल 773232 पंजीकृत कृषको मे से पात्ऱता शर्तो को पूर्ण करने वाले कृषको की संख्या 733675 एवं विभिन्न कारणो से अपात्र कृषको की संख्या 39557 है।
उन्होने बताया कि वर्तमान मे कुल पात्र 733675 कृषको के सापेक्ष 678873 कृषको को प्रथम किस्त, 644724 कृषको को द्वितीय किस्त, 605838 कृषको को तृतीय किस्त, 525752 कृषको को चतुर्थ किस्त, 431737 कृषको को पंचम किस्त एवं 321504 कृषको को छठवी किस्त का भुगतान किया जाना पोर्टल पर प्रदर्शित हो रहा है। जनपद के फीड डाटा मे से 21044 कृषको का आधार के अनुसार नाम एवं 39991 कृषको का आधार संख्या का संशोधन कराया जाना था, जिनमे से 917 आधार के अनुसार नाम एवं 12281 आधार संख्या का संशोधन किया गया है, जो अभी पोर्टल पर प्रदर्शित नही हो रहा है।
अधिक संख्या (कुल संख्या 47837) मे आधार संशोधन अवशेष प्रदर्शित होने के कारण जिलाधिकरी ने सूचित किया है कि एक ही कृषक परिवार के एक से अधिक लाभार्थी का डाटा होने एवं वर्तमान मे एक ही व्यक्ति को लाभान्वित हो सकने के प्रविधानो की जानकारी होने के बाद ऐसे कृषको द्वारा आधार संशोधन मे रूचि नही ली जा रही है। उक्त अवशेष डाटा अन्तर्गत मृतक कृषकांे का डाटा सम्मिलित है, जिस पर स्टाप पेमेन्ट एवं वसूली की कार्यवाही क्रमिक है। आधार के अनुसार नाम न होने से किस्त से वंचित कतिपय कृषको द्वारा बैंक मे दूसरा खाता खुलवाकर दूसरा पंजीकरण/डुप्लीकेट पंजीकरण के कृषको का डाटा भी अवशेष डाटा मे सम्मिलित है। विगत दो माह से कोविड-19 मे राजस्व लेखपालो के दायित्व निर्वहन मे व्यस्त होने के कारण केवल कृषि विभाग के उपलब्ध कार्मिको द्वारा यह कार्य किया जा रहा है। कृषि विभाग आजमगढ मे स्वीकृत पदो के सापेक्ष क्षेत्रीय कार्मिको की तैनाती कम है, फिर भी उपलब्ध संसाधनो से व्यापक प्रचार-प्रसार कराते हुए यह कार्य शीर्ष प्राथमिकता के आधार पर कराया जा रहा है। आधार संशोधन की प्रक्रिया पब्लिक डोमेन पर उपलब्ध होने के कारण कृषक स्वतः अपना आधार सत्यापन स्वयं के स्मार्ट फोन, सहज जनसेवा केन्द्र अथवा अन्य कम्प्यूटर केन्द्र से करा सकते है।  
उक्त के अतिरिक्त शत-प्रतिशत कृषको को लाभान्वित किये जाने के लक्ष्य को प्राप्त करने हेतु किंचित छूटे अथवा अस्थाई रोजगार के कारण जनपद से बाहर रहने वाले कृषको का पंजीकरण क्रमिक है। पंजीकृत कृषकों मे गलत खाता संख्या दर्ज कृषकों को भी भुगतान कराये जाने हेतु सम्यक अभिलेख प्राप्त कर मुख्यालय प्रेषण एवं प्राप्त निर्देश के क्रम मे पोर्टल पर इसके सुधार की कार्यवाही प्रत्येक विकास खण्ड मे स्थित राजकीय कृषि बीज भण्डार पर प्राविधिक सहायकों/कम्प्यूटर आपरेटर के माध्यम से एवं जनपद मुख्यालय पर सतत रूप से चल रही है। जिला खाद्य विपणन अधिकारी आरपी पटेल ने बताया है कि खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में 01 नवम्बर 2020 से कृषकों से धान क्रय प्रारम्भ होगा। गत वर्ष की भांति इस वर्ष भी कृषकों को अपना धान विक्रय कराने हेतु ऑनलाईन पंजीकरण कराया जाना अनिवार्य होगा। उन्होने जनपद आजमगढ़ के समस्त कृषक बन्धुओं से अनुरोध किया है कि कृपया अपना धान विक्रय करने हेतु खाद्य विभाग के पोर्टल fcs.up.gov.in पर किसी भी जन सुविधा केंन्द्र/साइबर कैफे से अपना पंजीकरण अवश्य करा लें तथा समर्थन मूल्य रूपये 1868/कु0 कॉमन धान तथा रूपये 1888/कु0 ग्रेड ‘ए’ धान की दर प्राप्त करें। पंजीकरण हेतु फोटोग्राफ, आधार कार्ड/पहचान-पत्र, भू-लेख या खतौनी एवं बैंक पासबुक की छायाप्रति अवश्य ले जाए। पूर्व में पंजीकृत किसानो को पंजीकरण की आवश्यकता नही है, उनके द्वारा पूर्व में किये गये पंजीकरण का नवीनीकरण किया जाना अनिवार्य है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *