चना घोटाला कांड में जिलाधिकारी के आदेश पर ठेकेदार समेत दो पर दर्ज हुआ मुकदमा, खाद्यान्न गोदामों से कोटेदार के बीच में सप्लाई की जांच जारी, एक दिन पूर्व हुई थी एकसाथ छापेमारी 

आजमगढ़ : जिले की चर्चित घटना में मुकदमा में सम्बन्धित अधिकारी को बचा कर ठेकेदारों पर मुकदमा दर्ज कर मामले की लीपापोती शुरू हो गयी। अतरौलिया थाने में ठेकेदार और उसके सहयोगी के खिलाफ विपणन निरीक्षक द्वारा मुकदमा दर्ज कराया गया। बता दें कि रविवार की शाम 7 बजे ट्रैक्टर पर सरकारी गोदाम अतरैठ से 120 बोरी चना अवैध रूप से कालाबाजारी के लिए जा रहा था। संजोग ही था अतरैठ चौराहे के समीप ट्रैक्टर का संतुलन बिगड़ गया और ट्रैक्टर एक अंडा विक्रेता के ऊपर पलट गई। जिससे अंडा विक्रेता बुरी तरह घायल हो गया। मामला तब तूल पकड़ा जब लोगों को यह पता चला कि यह चना अवैध रूप से कालाबाजारी के लिए जा रहा है। विपणन निरीक्षक विनीत सिंह द्वारा तहरीर देकर आरोप लगाया गया कि गोदाम के ठेकेदार परमल सिंह यादव उनके प्रतिनिधि सच्चीलाल यादव 120 बोरी चना कालाबाजारी के उद्देश्य ले जा रहे थे ,जो दुर्घटना होने पर मामला संज्ञान में आया जिसके तहत आवश्यक वस्तु अधिनियम 1955 की धारा 3/ 7 के तहत मुकदमा दर्ज करने की तहरीर दिए। जबकि सरकारी गोदाम से ठेकेदार का बिना किसी सक्षम अधिकारी की गैर मैजूदगी में 120 बोरी चना कैसे निकाल सकता है। दूसरी तरफ ठीकेदार की निगरानी के लिए भी अधिकारी होते हैं मगर रविवार के दिन सप्ताहिक अवकाश होने के बाद भी ठेकेदार गला निकाल लेता है और उसकी निगरानी करने वाला कोई अधिकारी मौके पर नहीं है जिससे स्पष्ट होता है कि पूरे प्रकरण में कुछ अधिकारियों की भूमिका संदिग्ध नजर आ रही है। दो छोटे कर्मचारियों पर मुकदमा दर्ज कर पूरे प्रकरण में बड़े  पदों पर आसीत जिम्मेदार लोगों को बचाया जा रहा है । इस संबंध में उप जिलाधिकारी बुढ़नपुर दिनेश मिश्र ने कहा कि मेरे द्वारा विपणन निरीक्षक से ठेकेदार से हुए अनुबंध पत्र के अभिलेख की मांग करने पर कोई अभिलेख उपलब्ध नहीं कराया गया। तथा किन परिस्थितियों में ट्रैक्टर ट्राली पर क्षमता से अधिक मात्रा में खाद्यान्न किन कोटेदारों का ले जाया जा रहा था उसका भी कोई जवाब नहीं मिला। मुकदमा दर्ज कर लिया गया है जांच की जा रही है जो भी इसमें दोषी होगा वह बख्शा नहीं जाएगा। कोरोना काल में गरीबों के लिए खाद्यान्न के साथ ही उनको विशेष तौर पर एक-एक किलो चना भी मुहैया कराया जा रहा है लेकिन इस पर भी भ्रष्टाचार व कालाबाजार का दीमक लग गया। आजमगढ़ में तब खुलासा हुआ जब एक सामान्य से सड़क हादसे में व्यापारी के यहां जा रही चना के सैकड़ों बोरे से लदी ट्रैक्टर ट्रॉली पलट गई। घटना को संज्ञान में लेते हुए डीएम ने जहां 2 लोग खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया वहीं पूरे जनपद में सभी 20 खाद्यान्न गोदामों में छापेमारी की गई और स्टॉक का निरीक्षण किया गया।ट्रैक्टर ट्राली दुर्घटनाग्रस्त होने से गरीबों को मिलने वाले सरकारी खाद्यान्न पर कुछ खाद्यान्न माफियाओं के डाका डालने का एक मामला प्रकाश में आया। बूढ़नपुर क्षेत्र के अतरैठ बाजार एक ट्रैक्टर ट्राली तिराहे पर दुर्घटनाग्रस्त हो गई। इस ट्राली पर सरकारी चना कोरोना महामारी के दृष्टिगत गरीबों को निःशुल्क बांटने के लिए सरकारी राशन की दुकानों पर मिलने के लिए आया था। कोयलसा विकासखंड के विभिन्न ग्राम पंचायतों के कोटे के दुकानों पर मिलने वाले राशन का गोदाम इस बाजार के पहले सरैया गांव में स्थित है। इसी गोदाम से ट्राली पर चना लादकर इसी बाजार में ही एक बहुत बड़े गल्ले के कारोबारी के यहां बिकने के लिए जा रहा था बीच रास्ते में ही ट्राली पलट गई और अंडा व्यवसाई गंभीर रूप से घायल हो गया तो इस मामले की पोल भी खुल गई थी। चना की कालाबाजारी के बाद जहां हड़कंप मच गया वहीं डीएम ने इस मामले में दो के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के साथ ही पूरे जनपद में चना और चीनी के स्टाफ के आकस्मिक निरीक्षण का सभी एसडीएम व बीडीओ को निर्देश दिया। इसी क्रम में जनपद के सभी 8 तहसील क्षेत्रों में टीमों का गठन कर तत्काल कार्रवाई की गई और सभी जगह स्टॉक की जांच की गई और गोदाम से कोटेदार के यहां सप्लाई किए गए चुनाव चना की जांच की जा रही है। जहां तत्काल एसडीएम नहीं पहुंच सके वहां बीडीओ के नेतृत्व में गोदाम को सील कराया गया।वहीं एसडीएम गोदाम में अपने कर्मचारियों के साथ जा कर बारीकी से खाद्यान व रखरखाव का निरीक्षण किए। उन्होंने स्टॉक रजिस्टर का बारीकी से मिलान किया, रखरखाव पर नाराजगी जाहिर की। गोदाम गोदाम से जितने भी कोटेदारों का गला उठान हुआ था सब का स्टॉक रजिस्टर भी मिलान किया गया। ट्रैक्टर ट्राली पर लदे गल्ले की भी बारीकी से जांच किया गया व उनका स्टॉक रजिस्टर भी देखा गया।अतरौलिया गोदाम की जांच किये नायब तहसीलदार  धर्मेंद्र सिंह ने बताया कि मुख्य रुप से चने की जांच की जा रही है। डीएम राजेश कुमार ने बताया कि स्टॉक जांच की प्रक्रिया अभी कुछ स्तर पर जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *